Dungarpur Nagar Parishad – Dungarpur Nagar Parishad

Our Dignitaries

Lorem ipsum dolor sit amet

Smt.Vasundhara Raje
Hon'ble Chief Minister

Lorem ipsum dolor sit amet

Shri.Shrichand Kriplani
Hon'ble UDH Minister

Lorem ipsum dolor sit amet

Shri.KK Gupta
Hon'ble Chairman

Toll Free 1800-121-8989

Lorem ipsum dolor sit amet

Swachh Surverkshan 2018 Anthem

Lorem ipsum dolor sit amet

स्वच्छ सर्वेक्षण - 2018 डूंगरपुर को बनाये नंबर 1

Lorem ipsum dolor sit amet

Lorem ipsum dolor sit amet

Lorem ipsum dolor sit amet

News & Events

गंदगी भरे भूखंडो पर परिषद् की कार्यवाही उपसभापति के नेतृत्व में टीम तत्काल साफ़ करवा रही है भूखंड

शहर को सवच्छ और सुन्दर रखने के उद्देश्य से नगरपरिषद के सभापति के.के.गुप्ता के निर्देश पर शहर के गंदगी से ...
Read More

नगरपरिषद का दशहरा-दीपावली मेला बुधवार से 24 से 2 नवम्बर तक दशहरा मैदान में होगा आयोजन शरद पूर्णिमा पर गुजरात के मशहूर कलाकार के साथ होगा गरबा रास

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी नगरपरिषद डूंगरपुर द्वारा दशहरा मैदान पर दशहरा-दीपावली मेला आयोजित किया जा रहा है। ...
Read More
Loading...

Our Innovations

.

Gallery

Dungarpur Lights   Shahid Park " order_by="sortorder" order_direction="ASC" returns="included" maximum_e...

Our Honorable Chief Guest

के.के. गुप्ता जी बोले नहीं उन्होंने करके दिखाया है – ध्यानयोगी उत्तम स्वामी
महर्षि जी ने अपने प्रवचन में कहा की मनुष्य के शरीर में सबसे कोमल जीभ होती है इससे किसी को पत्थर न मारे अगर सुखी होना है तो इसे ग्रहण कर लेवे ,वाणी से मीठा बोले और आपके सभापति गुप्ता जी ने बिना बोले ही डूंगरपुर को चमका दिया है सच कहु तो एक संत का स्वागत और उसके प्रति प्रेम आप सब ने शहर को सजा कर किया है
संत को कुछ नहीं चाहिये ऐसी भक्ति गुप्ता जी द्वारा शहर को सजाकर देना अद्भुत है के.के.गुप्ता जैसे सभापति देश की प्रत्येक नगर निकाय में हो जाए तो देश स्वच्छता में विश्व में सबसे अग्रणी हो जायेगा गुप्ता जी की कार्यशैली से में काफी प्रभावित किया है इनमे कार्य करने का जूनून, जज्बा है निश्चित ये एक दिन प्रदेश व देश का नेतृत्व जरूर करेंगे महर्षि जी ने ये भी कहा प्रत्येक मनुष्य जीवन में आरोप प्रत्यारोप करके जीवन यापन कर मर जाता है अपने जीवन में उसने क्या किया क्या कभी उसने परमात्मा के लिए समय निकाला वही महर्षि जी ने भगवान् को जपने के लिए माला जपने की जरुरत नहीं है,मंदिर में बैठने की जरुरत नहीं है मंदिर में बैठने से कोई व्यक्ति धार्मिक नहीं हो जाता है अगर ऐसा होता तो सबसे बड़ा धार्मिक रावण होता आप अपने विचारो व कर्मो से धार्मिक बने तभी आपका जीवन सफल है जीवन में कुछ करना ही है तो परमार्थ करे किसी को सुखी कर और किसी को हसा कर जीवन यापन करे तो ही मनुष्य जीवन सफल है,
-ध्यानयोगी उत्तम स्वामी